छग का ऐसा पहला सरकारी स्कूल जहाँ ई - लर्निंग सिस्टम के साथ होती है पढाई। ....

छग के  बिलासपुर स्थित दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे सह उच्चतर अंग्रेजी माध्यम स्कूल प्रदेश का पहला ई स्कूल बन गया है | इस स्कूल में छात्रों   का हर काम ऑनलाइन होता है | पढाई से लेकर ,परीक्षा और  छुट्टी भी ऑनलाइन होती है | होम वर्क या नोटिफिकेशन ,छात्र और परिजन दोनों घर बैठ कर देख सकते  है | शहर के इस सरकारी स्कूल में प्रत्येक कक्षा में प्रोजेक्टर ,थिंक लाइन कनेक्टेड विथ सर्वर ,ऑनलाइन एडमिशन ,फीस ,रिजल्ट ,बायोमेट्रिक अटेंडेंस ,फेस रीडर स्टाफ ,150 सीसीटीवी ,साथ ही कक्षा 9 वीं से 12 वीं तक के  बच्चों लिए ई ट्यूटर क्लास ,टीचर्स एप्प ,ऑनलाइन एग्जामिनेशन एप ,फेसबुक ,ट्विटर ,इंस्टाग्राम ,लिंक्डइंक ,विडिओ कॉन्फ्रेसिंग सिस्टम ,मोटिवेशनल लेक्चर जैसे कई सुविधाएं बच्चों के लिए उपलब्ध है | इसके अलावा इस  स्कूल में स्मार्ट क्लास रूम ,डिजिटल लाइब्रेरी ,कम्प्युटरीज़ेड लाइब्रेरी के द्वारा यहां के बच्चे आसानी से ज्ञान अर्जित कर सकते है | ये स्कूल सिर्फ दो साल में ही ई  अपग्रेड  है | इतने सारे सुविधाओं के बीच में यहां सुरक्षा के भी पुरे इंतजाम किये गए है | इसके लिए प्रिंसिपल रूम के बगल में सेन्ट्रल मॉनिटरिंग  है | यहां से पुरे दिन बच्चों की गतिविधियों पर नज़र रखा जाता है | स्कूल के चारों और सीसीटीवी कैमरे लगे हुए है | अगर क्लास में कोई टीचर के पहुंचने में देरी  हो रही है तो तुरंत उनके मोबाइल में मैसेज पहुंच जाता है | क्लास रूम में बच्चों के लिए बाकायदा डाइट चार्ट भी है | टिफ़िन में उन्हें वहीँ चीजे लानी होती है जो चार्ट में लिखी हुई है | जंक फ़ूड पूरी तरह  प्रतिबंधित है | इस  स्कूल को रेलवे और आईजीसीसीआईए से अवार्ड भी मिला हुआ है | ये अपनी तरह का छग का पहला सरकारी ई -स्कूल है |